Home Health सावधान प्लास्टिक के चावल खा कर लोग पड़ रहें हैं बीमार, जानिए...

सावधान प्लास्टिक के चावल खा कर लोग पड़ रहें हैं बीमार, जानिए इससे परखने के घरेलु उपाय

भारत में यूँ तो बेईमान लोगों की कमी नही थी, पहले तो नकली नोट और अब कुछ व्यापारी इस कदर गिर गए हैं की नकली चावल बनाने का भी रास्ता ढूँढ लिया है। विश्व में सबसे ज्यादा चावल की खपत कही होती है तो वो है भारत और इसी बात का फ़ायदा उठाया है कुछ मक्कार लोगों ने हु-बहु चावल जैसी दिखने और खाने वाली नकली चावल बना डाली है। जिसे खा के कौन सा असली है ये बता पाना नामुमकिन है। दोनों स्वाद में एक जैसे हैं. इस चावल के सेवन से कुछ समय बाद कई सारी बीमारियाँ होने लगती है

बात करें चावल के उत्पादन की तो चीन यहाँ पहले स्थान पे आता है।  करीबन 200 मिलियन टन चावल चीन से हर साल  बन कर बाहरी देशों में भेजा जाता है। । Korea Times की बताई गयी खबर के अनुसार चावल को कृतिम ढंग से बना कर भी दुनिया के कई अलग-अलग हिस्सो में भेजा जा रहा है।

तो आईए आपको दिखाते हैं के कैसे ये नकली चावल बनाया जाता है और कैसे इसकी जांच भी की जा सकती है

प्लास्टिक और आलू के स्टार्चसे बनायीं जाती है नकली चावल

 

मशीनों की सहायता से आलू के स्टार्च को प्लास्टिक के  साथ मिक्स किआ जाता है और फिर उसे कणों में ढाला जाता है। ज्यादातर ऐसे काम चीन की ही बड़ी बड़ी फाक्ट्रियों में की जाती है।

आप इस विडियो में देख है की कैसे यहाँ नकली चालवल बनाई जाती है

वाटर टेस्ट

क्या आपको ये बात पता है की चावक की जाँच कैसे करें कैसे उसकी शुद्धता का पता लगायें. नकली चावल का पता लगाने के लिए मुख्य रूप से इसे 4 तरीकों से परिक्षण किया जाता है।  जिसमे पहला है वाटर टेस्ट 2. फायर टेस्ट 3 पेस्टल टेस्ट, 4. मोल्ड टेस्ट, तो ये हुए परिक्षण के चारों तरीके और सबसे पहले हम जानेंगे की वाटर टेस्ट के ज़रिये चावल की शुद्धता का पता कैसे लागतें हैं। तो सबसे पहले एक बर्तन में ठंढा पानी लें और थोड़ा सा कच्चा चावल भी साथ में रखें।

 

थोड़ा सा चावल लें और उसे ठंढे पानी में दूबों दें

 

एक छोटा पानी से भाड़ा कटोरा(बाउल) लें।  अब गौर से धयान लगा के देखें अगर डाला हुआ चावल पानी सतह में बैठ जाता है तो घबराने की कोई ज़रूरत नही है। आपका चावल बिलकुल सही और असली है।  और यदि चावल पानी के ऊपर तैरना शुरू कर दें तो समझ जाएँ की चावल सही नहीं है और उसमे मिलावट है।

 

फायर टेस्ट

फायर टेस्ट करते वक़्त अपनी सेफ्टी का ख्याल रखें। तो सबसे पहले चावल का थोड़ा सा टुकड़ा लें और उसे आगे के सामने रखें। और फिर उसके जलने तक का इंतज़ार करें, जैसे ही चावल आग के संपर्क में आएगी तो उसमे से एक अलग ही महक आने लगेगी। अब चावक के जल जाने पर उसे सूंघने की कोशिस करें यदि चावल से प्लास्टिक जसी सुगंध आने लगे तो समझ जाईए के चावल बिलकुल नकली है

 

पेस्टल टेस्ट

हमने अभी तक 2 तरह के टेस्ट देखें। अब बारी है तीसरे टेस्ट की, तीसरा टेस्ट है पेस्टल टेस्ट पेस्टल का मतलब होता है कुटना, अब आप समझ ही गए होंगे के चावल को कूट कर भी उसके असली या नकली होने का पता लगाया जा सकता है तो सबसे पहले थोड़ा सा चावल लें और उसे कूट लें यदि चावल कूटने वक़्त या कूटने के अपना रंग बदल रहा हो तो समझ जाएँ चावल नकली है

 

मोल्ड टेस्ट

अब अब बारी आती है आखिरी टेस्ट की जिसका नाम है मोल्ड टेस्ट, तो सबसे पहले आप चावल को अच्छे से पका लें

 

फिर इसे बीकर में डाल कर थोड़ा इन्तेज़ार  करें

अब पके हुए चावलों को ले कर बीकर में दाल बीकर बंद कर दें और उसे किसी गर्म जगह पर रखें। कुछ समय बाद अगर चावल मोल्ड हो जाता है तो ठीक है यदि ऐसा नहीं होता हैं तो समझ जाएँ चावल नकली हैं।

तो दोस्तों हेमशा सावधान रहें और स्वथ्य रहें और अपना ख्याल रखें।

यदि आपको किसी और खाद्य पदार्थ की जानकारी लेनी हो तो नीचे कमेंट करें।